डार्क वेब के बारे में 10 खतरनाक facts


  • 2001 में डार्क वेब का साइज़ 7.5 P.B होता था जबकि 2003 में बड़कर  91000 PB हो गया |
  • डार्क  एक्सेस  करने   के लिए TOR BROWSER इस्तमाल में लिया जाता है क्योकि ये आपके IP एड्रेस को सुरक्षित रखता है | 
  • डार्क वेब पर आप वो सारी किताबे पढ़ सकते है जो आम लो गो के लिए बैन है |
  • डार्क वेब पर सारी गैर कानूनी चीज़े होती है जैसी की लोगो के चोरी किये गए  कार्ड्स की जानकारी को बेचना , ड्रग सेल्लिंग आदि |
  • डार्क वेब पर किसी भी देश की नकली ID और पासपोर्ट बनाके पैसो में बेचीं जाती है और ये डार्क वेब में बहुत प्रचलित कार्य है |
  • डार्क वेब के पैसो के सारे लेन देन bitcoin से होते है जिसमे प्राइवेसी का बहुत ध्यान रखा जाता है |
  • कई  देशो की कई गुप्त जानकारियाँ और एलियंसके बारे में गुप्त जानकारियाँ भी मौजूद है पर इन्हें ढूढ़ना कठिन है |
  • यूनाइटेड स्टेट्स और स्वीडन इसकी फंडिंग  करती थी जब ये प्रोजेक्ट शुरू हुआ था |
  • एक साइबर  क्रिमिनल ने अपनी ट्रिक लगा कर डार्क वेब से  फ्री  में ड्रग्स आर्डर कर दिए थे , पर जब ये बात सेलर को बता चली तो उस गुस्साए हुए सेलर ने ड्रग्स के साथ साथ FBI वालो को भी उसके घर भेज दिया |
  • डार्क वेब पर "लड़कियों को कैसे पकाए ?" जैसी खौफनाक चीज़े भी उपलब्ध है |
  • BONUS FACT : डार्क वेब पर एक सेलर ऐसा पाया गया था जो सिर्फ गाजर सेल कर रहा था | 
डार्क वेब के बारे में 10 खतरनाक facts डार्क वेब के बारे में 10 खतरनाक facts Reviewed by Vardhman Jain on April 08, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.