महान क्रांतिकारियों की शायरियां

Download best Shayari App Now

वतन की सर-ज़मीं से इश्क़ ओ उल्फ़त हम भी रखते हैं 

खटकती जो रहे दिल में वो हसरत हम भी रखते हैं 
~जोश मलसियानी

Download best Shayari App Now

भलाई ये कि आज़ादी से उल्फ़त तुम भी रखते हो 
बुराई ये कि आज़ादी से उल्फ़त हम भी रखते हैं 
~जोश मलसियानी

Download best Shayari App Now

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है
~बिस्मिल अज़ीमाबाद 

Download best Shayari App Now

मेरे जज़्बातों से इस कदर वाकिफ है मेरी कलम
मैं इश्क़ भी लिखना चाहूँ तो भी, इंकलाब लिख जाता है !
~भगत सिंह

Download best Shayari App Now

वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियाँ रगड़ने दे
मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा
~अज्ञात

Download best Shayari App Now

ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी
आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी
~नजीर बनारसी 

Download best Shayari App Now

हैं इस हवा में क्या क्या बरसात की बहारें
सब्ज़ों की लहलहाहट बाग़ात की बहारें
~नज़ीर अकबराबादी

Download best Shayari App Now

हम शहीदों को कभी मुर्दा नहीं कहते 'अनीस'
रिज़्क़ जन्नत में मिले शान यहाँ पर बाक़ी
~अनीस अंसारी

Download best Shayari App Now

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली
~कवि प्रदीप

Download best Shayari App Now

अजल से वे डरें जीने को जो अच्छा समझते हैं।
मियाँ! हम चार दिन की जिन्दगी को क्या समझते हैं?
~रामप्रसाद बिस्मिल

Download best Shayari App Now
महान क्रांतिकारियों की शायरियां महान क्रांतिकारियों की शायरियां Reviewed by Vardhman Jain on January 26, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.