भारत के इन 10 राज्यों में होली मनाने का तरीका



Source:-Google

भारत विविधता में एकता का प्रतीक है, यहाँ विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं का खजाना है और इन परम्पराओं को जीवित रखने के लिए ढेर सारे त्यौहार होते हैं। होली भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक है जिसे बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है और अलग अलग परम्पराओं और संस्कृति को ध्यान में रखते हुए होली खेली जाती है। आइये जानते है की होली को भिन्न भिन्न जगहों पर किस प्रकार से मनाते हैं
1. ब्रज की होली और बरसाना की लठमार होली:
Source:-Google

Source:-Google

होली की परंपरा ब्रज क्षेत्र में शुरू हुई, अर्थात् वृन्दावन, मथुरा, नंदगांव और बरसाना। होली का त्यौहार यहाँ लगभग एक महीने तक मनाया जाता है,बरसाना में आदमियों के पीछे लठ या लाठी लेकर औरतें भागती है और पुरुष भी जम कर दौड़ लगाते है क्योकि उनको लठ से मार खाने से बचना होता है । ये दृश्य बहुत ही बढ़िया लगता है और होली के मजे और भी बढ़ जाते है ।

2. कुमाऊँ क्षेत्र की खड़ी होली :
Source:- Google

खड़ी होली भारत के ग्रामीण क्षेत्र कुमाऊं में खेले जाने वाली होली है। यहाँ होली के दिन लोग  पजामा कुरता, चूड़ीदार और सफ़ेद नोकदार टोपी पहनते है साथ ही पारंपरिक संगीत खरी गानो पर नाचते है और होली मनाते है। वे हुर्का और ढोल का उपयोग नाचने और गाने में करते हैं । वे एक जुलूस निकालते हैं, गाने गाते हैं और क्षेत्र में लोगों को बधाई देते हैं। लोग छोटे छोटे समूह में होली का जश्न मानते हुए निकलते है । कुमाऊं क्षेत्र में खड़ी होली के साथ साथ महिला होली भी खेली जाती है ।

3. पंजाब की होला-मोहल्ला होली:
Source:- Google

भारत में हर दूसरे राज्य की तरह, पंजाब भी होली के त्योहार को एक अनूठे तरीके से मनाता है। यहाँ होली, होला मोहल्ला या बस होला के रूप में जाना जाता है । इसे पंजाब में होली उत्सव के एक दिन बाद में मनाया जाता है, खासकर निहंग सिखों द्वारा यह बहुत धूमधाम और उत्साह के साथ मनाया जाता है और लोग इसमें मार्शल आर्ट्स का प्रदर्शन करते हैं, कुश्ती खेलते है और शाम में रंगों के साथ भी होली खेलते हैं ।

4. बंगाल का बसंत उत्सव:
Source:- Google
होली का त्योहार बंगाल में बसंत उत्सव या वसंत त्योहार के नाम से मनाया जाता है। होली के त्योहार पर यहाँ शांति निकेतन में मेला लगता है जो इससे और भी मजेदार बना देता है । वसंत त्यौहार के लिए, युवा लड़कियां और लड़के भगवा रंग के कपड़े पहन और फूलो की माला गले में डाल गाने गाते है और नृत्य करते है ।
● बंगाल का डोल जत्रा: 
Source:-Google

डोल जत्रा बंगाल में होली त्योहार का एक हिस्सा है। डोल पूर्णिमा पर,भक्तगण एक रथ पर राधा और कृष्णा की मूर्तियों को रख, जुलूस रूप में सड़कों पर ले जाते हैं। महिलाएं मूर्तियों के चारों ओर गाना और नृत्य करती हैं। जुलूस में पुरुष पानी और रंगों गुलालों को हवा में छिड़कते है ।
5.असम में फाकुआ:- 
Source:- Google

असम राज्य में, होली को फाकुवा के रूप में जाना जाता है, यहाँ त्योहार को दो दिनों तक मनाया जाता है। पहले दिन, मिट्टी की झोपड़ी बना होलिका दहन किया जाता है और दूसरे दिन रंगो के साथ होली का आनंद लिया जाता है ।

6. गोवा में शिगमो:
Source:-Google
कोंकणी समुदाय के बीच ये त्यौहार बड़ी धूमधाम और भव्यता के साथ मनाया जाता है । लोग जीवंत रंगों के कपड़े पहनते हैं और ऊर्जावान धुनों में नृत्य करते हैं। वसंत का त्यौहार, होली को स्थानीय किसानों के बीच मनाया जाता है।

7. आंध्र प्रदेश में होली:
Source:-Google

हम में से बहुत से लोग मानते हैं कि होली एक त्योहार है जो केवल उत्तरी क्षेत्र में खेला जाता है। लेकिन रंगों का त्योहार आंध्र प्रदेश में भी प्रसिद्द त्यौहार है। हालांकि यह उत्तर में जैसे बड़े पैमाने पर नहीं खेला जाता है लेकिन युवा सूखे रंगों के साथ खेल और परिवार में बड़ों से आशीर्वाद प्राप्त कर जश्न मनाते हैं। यहाँ के बंजारा आदिवासी जनजाति, रंगीन पारंपरिक नृत्य प्रदर्शनों के साथ त्योहार मनाते हैं।

8. मणिपुर में यौसांग:
Source:- Google
यासोंग मणिपुर का होली उत्सव का संस्करण है समारोह लामदा के पूर्णिमा के दिन अर्थात मार्च से शुरू होता है और अगले पूरे दिनों तक जारी रहता है। इस त्यौहार के दौरान थबल चोंगबा जो प्रसिद्ध मणिपुरी नृत्य है, किया जाता है। साथ में यहाँ होली रंग और पानी के साथ भी खेली जाती है।

9. केरल का मंजल कुली:-
Source:- Google

उत्तर भारत की तरह भव्य पैमाने पर होली को दक्षिण भारत में नहीं खेला जाता है लेकिन देश के दक्षिणी हिस्से में कुछ समुदाय विभिन्न परंपराओं और नामों के साथ त्योहार मनाते हैं। केरल में, होली को मंजल कुली के रूप में मनाया जाता है यह गोशीपुरम तिरुमला के कोंकणी मंदिर में मनाया जाता है।

10. बिहार में धुलेंडी :
Source:- Google
होली बिहार राज्य में एक बड़ा त्योहार है और इसे स्थानीय भोजपुरी बोली में फागुवा के रूप में जाना जाता है। धुलेंडी या फागुवा खेलने से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है और धुलेंडी के दिन पानी,प्राकृतिक रंगो और गुलाल से होली खेली जाती है ।
Source:- Google search
इस तरह होली के त्यौहार को अपनी अपनी परम्पराओ और सभ्यता के अनुसार पुरे भारत देश में हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है । आशा है आपकी होली इस साल भी धूम धाम से मने। होली की हार्दिक अग्रिम शुभकामनाएं ।

Read :- 10 People who got Fame Overnight
Read :- Top 10 Myths About INDIA
भारत के इन 10 राज्यों में होली मनाने का तरीका भारत के इन 10 राज्यों में होली मनाने का तरीका Reviewed by Vinit Gupta on January 22, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.